Saturday, 17 July 2021

चलो उस पार....

चलो उस पार चलते हैं, जहाँ गम का निशां ना हो
जहाँ कल कल नदी बहती, हवा का खूब आना हो
न हों छल-छद्म से कंटक, सभी सुख से रहें मिलकर
बरसता हो जहाँ सावन, खुशी का ना ठिकाना हो
- © डॉ.सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद

No comments:

Post a Comment