Wednesday, 3 September 2014

मेरा बचपन, तेरा आँचल

जीवन की धुंधली छाया में,
छल-छद्म की बिखरी माया में,
फैलते गम के साए में और
सुख की सिमटी-सी काया में,
               मैं ढूँढ ढूँढ कर हार गई मां,
               अपना बचपन, तेरा आँचल !

जग के निष्ठुर उपहासों में,
सुख की बंजर-सी आसों में,
जीवन-मरण का खेल खेलती
चलती थमती-सी साँसों में,
                   मैं ढूँढ ढूँढ कर हार गई मां,
                   अपना बचपन तेरा आँचल !

- डाॅ0 सीमा अग्रवाल
मुरादाबाद ( उत्तर प्रदेश )

No comments:

Post a Comment