Wednesday, 11 May 2016

ए मन ये क्या कर दिया तूने ---

मुझे ही मुझसे छीन लिया तूने !
ए मन ! ये क्या कर दिया तूने !

आँखों में मेरी अश्क भर दिए
अधरों को मेरे सी दिया तूने !

विवेक को भी तो बख्शा न मेरे
संज्ञा शून्य उसे कर दिया तूने !

उखाड़ के मुझको मेरी जमीं से
क्यूं चाह को पंख दे दिया तूने !

रहने ही देता मुझे सीमा में मेरी
असीम से क्यूँ मिला दिया तूने !

- सीमा

No comments:

Post a Comment