Wednesday, 8 October 2014

कुछ दोहे----

सोनचिरैया देश यह, था जग का सिरमौर।
महकाती सारा जहां, कहाँ गई वह बौर ।।

रक्षक ही भक्षक बने, खींच रहे हैं खाल ।
हे प्रभु ! मेरे देश का, बाँका हो न बाल ।।

आरक्षण के दैत्य ने, प्रतिभा निकली हाय !
देश रसातल जा रहा, अब तो दैव बचाय ।।

झांसे में न आ जाना, सुन कर मीठे बोल ।
दिल की सुनना बाद में, लेना बुद्धि से तोल ।।

बेरोजगारी बढ रही, जनसंख्या के साथ । 
  बीसियों पेट भर रहे, केवल दो ही हाथ ।।

मुंह से निकली बात के, लग जाते हैं पैर ।
बात बतंगड गर बने, बढ जाते हैं बैर ।।

फल तो उसके हाथ है, करना तेरे हाथ ।
निरासक्त हो कर्म कर, देगा वो भी साथ ।।

लोभ मोह सब छोड़ कर, कर ले प्रभु का जाप ।
अब तक जितने भी किए, धुल  जाऐंगे  पाप ।।

यह सभ्यता यह संस्कृति, यह वाणी यह वेष । कुछ भी तो अपना नहीं, बचा नाम बस शेष ।।

-सीमा अग्रवाल
   मुरादाबाद ( उत्तर प्रदेश )

No comments:

Post a Comment