Monday, 16 February 2015

सुन तुम्हारे दिल की धड़कन---

सुन तुम्हारे दिल की धडकन,
सांस चलती थी मेरी !
तुम पर कोई आँच आए,
जां निकलती थी मेरी !
जी रही हूँ कैसे तुम बिन ,
हैरान हूँ ये देखकर,
पहले तो पहलू में तुम्हारे,
साँझ ढलती थी मेरी !

रब ही जाने कैसे तुम बिन जिंदगी चलती मेरी ! गुमनामियों के साए में उम्र यूँ ही ढलती मेरी !

- सीमा अग्रवाल

No comments:

Post a Comment