Saturday, 14 February 2015

यूँ आशा हमें बहलाती है---

जब दुख की अति हो जाती है
दिग्भ्रमित मति हो जाती है
एक किरण कौंध कहीं जाती है
यूँ आशा हमें बहलाती है !

जब रात अमा की आती है
राका भी नजर चुराती है
एक लौ कहीं जल जाती है
यूँ आशा हमें बहलाती है !

जब बदली गम की छाती है
घनघोर घटा घिर आती है
चल चपला चमक तब जाती है
यूँ आशा हमें बहलाती है !

अंत निकट जब दिखता है
तम-सा आँखों में घिरता है
अलख-ज्योति राह सुझाती है
यूँ आशा  हमें बहलाती है !

जीवन में जितने घाव मिले
हौले हौले उन्हें सहलाती है !
उतार फेंकती तम की चादर
रवि-किरनों से नहलाती है !
           यूँ आशा हमें बहलाती है !
        

-सीमा अग्रवाल

No comments:

Post a Comment