Thursday, 11 February 2016

वक्त जब आड़े आता है ---

वक्त जब आड़े आता है
चाँद सूरज भी ढलते हैं
रुकते नहीं हार मानकर
नित नूतन हो चलते हैं
~ सीमा

No comments:

Post a Comment